सिवनी मालवा। एक और प्रदेश के मुखिया कमलनाथ और जिले के प्रभारी मंत्री पीसी शर्मा यह बोलते नहीं थक रहे हैं कि सभी किसानों को कर्ज माफी का पूरा लाभ दिया जाएगा। वहीं दूसरी ओर प्रशासन के नौकरशाह अपने आप को प्रदेश के मुखिया से बढ़कर समझ रहे हैं। और बुजुर्ग एवं नासमझ किसानों को दुत्कार कर भगाने से भी पीछे नहीं हट रहा है और यहां तक बोल जा रहे हैं कि जहां शिकायत करना हो कर दो।

ऐसा ही एक मामला होशंगाबाद जिले की सिवनी मालवा तहसील के ग्राम नवल गांव के अंतर्गत आने वाले ग्राम गाडरी पुरा का सामने आया। जहां एक बुजुर्ग किसान अपनी कर्ज माफी से संबंधित दस्तावेज जमा करने जब ग्राम पंचायत पहुंचा तो पहले तो सचिव उन्हें गुमराह करता रहा उसके बाद जब किसान के द्वारा पुनः सचिव से बात करने का प्रयास किया गया तो ग्राम पंचायत नवल गांव के सचिव के द्वारा किसान को दुत्कार दिया गया। जिस से डरा हुआ किसान वहीं पंचायत में कुछ देर बैठा रहा पर जब पानी सर से ऊपर जाने लगा तो किसान के द्वारा सचिव से एक बार फिर से अनुरोध किया गया तब सचिव के द्वारा उक्त किसान के दस्तावेज वहां खड़े सभी लोगों के सामने फेंक दिए गए।

जिससे किसान आहत हुआ और वह उक्त सचिव की शिकायत करने सिवनी मालवा एसडीएम कार्यालय पहुंचे जहां उसका आवेदन तो ले लिया गया परंतु 1 माह बीतने के बाद भी कोई कार्यवाही नहीं की गई। जिसके बाद किसान पुनः सचिव की शिकायत करने एसडीएम कार्यालय पहुंचा परंतु उक्त शिकायत के बाद भी किसान लेकर उसे वापस लौटा दिया गया अब देखने वाली बात यह है अपने आप को किसान हितेषी बताने वाले सीएम कमलनाथ और किसानों को ऋण माफी का पूरा लाभ दिलाने का वादा करने वाले जिले के प्रभारी मंत्री पीसी शर्मा उपसचिव पर क्या कार्रवाई करते हैं।