कमिश्नर ने हितग्राहियों के ऋण प्रकरण स्वीकृत न कराने वाले अधिकारियों को दी कड़ी चेतावनी

होशंगाबाद| नर्मदापुरम् संभाग कमिश्नर रविन्द्र मिश्रा ने आदिवासी वित्त विकास निगम, जिला अंत्यवसायी विभाग, खादी एवं ग्रामोद्योग, हथकरघा एवं माटीकला विकास, पिछड़ा वर्ग एवं अल्पसंख्यक विभाग तथा जिला व्यापार एवं उद्योग केन्द्र की योजनाओ की संभागीय समीक्षा बैठक ली। उन्होंने कहा कि इन सभी विभागो का कार्य युवाओं को उनकी योग्यतानुसार स्वरोजगार के लिए प्रेरित कर ऋण प्रकरण स्वीकृत कराना है। विभाग का मुख्य कार्य युवाओं को स्वरोजगार दिलाने का है। शासन की प्राथमिकता भी यही है कि अधिक से अधिक युवाओं को स्वरोजगार देकर स्वावलंबी बनाया जाए। कमिश्नर ने कहा कि सभी स्वरोजगार देने वाले विभाग अपना कार्य सक्रिय रूप से करें। कलेक्टर के संपर्क में रहकर बैंको से स्वरोजगार के ऋण प्रकरण प्राथमिकता से स्वीकृत कराएं। कमिश्नर ने कार्य न करने वाले अधिकारियों को कड़ी चेतावनी जारी की और कहा कि यदि वे हितग्राहियों के लिए बैंक से ऋण प्रकरण स्वीकृत नही करा पायेंगे तो उनके विरूद्ध कड़ी कार्यवाही सुनिश्चित की जायेगी। उन्होंने सावित्री बाई फूले स्वसहायता समूह विकास योजना के अंतर्गत ऐसे पाकेट या जगह का चयन करने के निर्देश दिए जहाँ प्रचलन अनुसार कोई भी एक स्वरोजगार के कार्य हो रहे हैं, चाहे वो अगरबत्ती बनाने का कार्य हो, चाहे मिट्टी के बरतन या नमकीन बनाने का कार्य हो। कमिश्नर ने कहा कि यदि कोई अलग-अलग प्रकार से स्वरोजगार करना चाहता है तो ऐसे स्वसहायता समूह का चयन किया जाए और उन्हें ग्रुप में कार्य दिया जाए। कमिश्नर ने कहा कि यदि किसी अधिकारी को फील्ड में कोई परेशानी आ रही है या ऋण प्रकरण स्वीकृत कराने में उसे बैंक का सहयोग नही मिल रहा है तो वे अपने-अपने कलेक्टर से संपर्क कर प्राथमिकता से ऋण प्रकरण बैंक से स्वीकृत कराएं। उन्होंने हरदा एवं बैतूल जिले द्वारा किये जा रहे कार्य के प्रति असंतोष व्यक्त किया।

कमिश्नर ने मुख्यमंत्री स्वरोजगार योजना में अब तक हुई प्रगति की समीक्षा की। उन्होंने विभिन्न विभागो द्वारा इस योजना में अपेक्षित प्रगति न लाने पर गहरी नाराजगी व्यक्त की तथा निर्देश दिये की नोडल अधिकारी प्रतिदिन इन अधिकारियों से प्रगति की रिपोर्ट लें। उन्होंने मुख्यमंत्री आर्थिक कल्याण योजना एवं मुख्यमंत्री कृषक उद्यमी योजना की समीक्षा की। उन्होंने कहा कि कृषि उद्यमी योजना में कृषको एवं कृषको के बच्चों को हारवेस्टर, कृषि यंत्र के लिए ऋण देकर स्वावलंबी बनाया जा सकता है। उन्होंने संभाग में जिला अंत्यवसायी अधिकारियों द्वारा विभिन्न योजनाओं में किये गये बेहतरीन कार्य की सराहना की। कमिश्नर ने हथकरघा एवं माटीकला विभाग की समीक्षा करते हुए निर्देश दिये कि विभाग तीनो जिलो में दिये गये लक्ष्य को शतप्रतिशत पूरा करें। उन्होंने कहा कि जिन विभागो में संभागीय अधिकारी नही है उन विभागो में संभाग स्तर पर पदस्थ अधिकारी ही नोडल अधिकारी का कार्य करेंगे। उन्होंने कहा कि अधिकारियों के पास वो शक्ति है कि वे किसी परिवार को रोजगार दे सकते हैं। आवश्यकता है कि अधिकारी अपनी शक्तियों को पहचाने और पूरा फोकस युवाओं को स्वरोजगार देने पर लगायें। उन्होंने टारगेट पूरा न करने वाले अधिकारियों को कड़ी चेतावनी जारी की और कहा कि ऐसे  अधिकारियों के विरूद्ध कड़ी कार्यवाही सुनिश्चित की जायेगी।

कमिश्नर ने पिछड़ावर्ग एवं अल्पसंख्यक कल्याण विभाग होशंगाबाद, बैतूल एवं हरदा के कार्यो की भरपूर सराहना की। उल्लेखनीय है कि तीनो जिलो ने शतप्रतिशत लक्ष्य पूरा करके दिखाया है। श्री मिश्रा ने सभी अधिकारियों को प्रशंसा पत्र जारी करने के निर्देश दिये। कमिश्नर ने नगर पालिका अधिकारी होशंगाबाद को निर्देश दिये कि वे शहर में ई-रिक्शा को बढ़ावा दें और ई-रिक्शा की संख्या बढ़ाए। उन्होंने युवा स्वाभिमान योजना एवं जिला व्यापार एवं उद्योग केन्द्र द्वारा विभिन्न योजनाओं के तहत किये गये कार्यो की समीक्षा की। बैठक में सभी विभागो के संबंधित अधिकारी मौजूद थे।