पन्ना। कहते है कि जनता का जब गुस्सा फूटता है तो सब तबाह कर देता है,कई सरकारें आई और गई,कई नेता वादा करके चले गए मगर, गुनोर जनपद पंचायत की सरहंजा ग्राम पंचायत के अंतर्गत आने वाले उड़की गांव में लोग आज भी मूलभूत सुविधाओं से वंचित हैं,वैसे भी बुंदेलखंड का पन्ना जिला अन्य जिलों की अपेक्षा सबसे ज्यादा पिछड़ा हुआ है, देश आजाद हो गया पर उड़की गांव के लोग आज भी कुएं के मेंढक की तरह हैं गांव के लोगों का कहना है कि वर्षों से नेता चुनाव के समय गांव में वोट मांगने आते हैं हाथ जोड़ते हैं लेकिन चुनाव होते ही उन्हें भूल जाते हैं एक बार नहीं दो बार नहीं आजादी के बाद से यही चला आ रहा है लेकिन गांव की हालत जस की तस बनी हुई है गांव की सड़क गड्ढों में तब्दील है खेतो के बीच से हो कर उन्हें निकलना पड़ता है, जिस कारण से ग्रामीणों ने आने वाले लोकसभा चुनाव में मतदान का बहिष्कार करने का फैसला किया ग्रामीणों ने घर में रोड नहीं तो वोट नहीं की तख्तियां लिखकर टांग रखी है, इतना ही नहीं ग्रामीणों ने चैराहे पर जूतों की माला बनाकर टांगी है ताकि कोई भी नेता वोट मांगने आएगा तो यह जूतों की माला ग्रामीणों उन्हें पहनाएंगे।

तस्वीरो को अगर ब्लाक एंड वाइट् कर दी जाए तो शायद ऐसा लगेगा जैसे हम आजादी के पहले वाली तस्वीर देख रहे हो। गांव में आज तक रोड नही बन पाई जिस कारण से ग्रामीणों को काफी समस्यायों का सामना करना पड़ता है। इतना ही नही गांव में कई कुँवारी लडकिया बैठी हुई है और सड़क न होने की वजह से कोई उस गांव में शादी नही करना चाहता है। जिस कारण ग्रामीणों का गुस्सा सातवे आसमान पर है और उनका कहना है कि अगर इस लोकसभा चुनाव में कोई भी उनके गांव वोट मांगने आएगा तो ग्रामवासी जूतो की माला से उनका स्वागत करेंगे।

गांव में मुख्य समस्या तो सड़क की है साथ ही गांव में पानी की भी काफी किल्लत है जिस कारण से ग्रामीण परेशान है। कई बार ग्रामीणों ने नेता और अधिकारियों से इस संबंध में शिकायत की लेकिन किसी ने भी उनकी एक नही सुनी जिस कारण से ग्रामीणों ने अब ये ठान लिया है कि पूरा गांव मिल कर लोकसभा चुनाव का बहिष्कार करेगा।

सड़क न होने की वजह से छात्र-छात्राये स्कूल नही जा पाती है इतना ही नही बरसात के मौसम में ग्रामीण केदियो की तरह कैद हो जाते है। अगर कोई बीमार हो जाता है तो मुख्यमार्ग के पहले ही उसकी मृत्यु हो जाती है। गांव के बुजुर्ग कब से ये सपना देख रहे है कि उनके गांव का विकास होगा लेकिन हालात जस की तस है।

वहीं जब इस पूरे मामले में अपर कलेक्टर से बात की गई तो उनका कहना था कि ग्रामीणों को समझाइश दी जाएगी कि वे अपने मताधिकार का प्रयोग करें साथ ही गांव में जो भी समस्या है उनकी समस्याओं का निराकरण करने का प्रयास किया जाएगा।

देखें पूरा विडियो

https://www.youtube.com/watch?v=5U_TMtAG-bE