राव को फिर दिया भाजपा ने मौका, कांग्रेस का नए चेहरे पर दांव

होशंगाबाद-नरसिंहपुर संसदीय सीट के दोनों प्रत्याशी एक ही जिले के रहवासी

होशंगाबाद। संसदीय क्षेत्र के दोनों प्रमुख राजनैतिक दल भाजपा और कांग्रेस ने अपने उम्मीदवारों की स्थिति स्पष्ट कर दी है। भाजपा ने दो बार के सांसद रावउदय प्रताप सिंह पर ही भरोसा जताया है वही कांग्रेस ने युवा शैलेंद्र सिंह दाव लगाया है। शैलेंद्र सिंह पूर्व मंत्री दीवान चंद्रभान सिंह के बेटे है।

इस चुनाव में खासबात यह है कि दोनों ही प्रत्याशी नरसिंहपुर जिले से है। प्रत्याशी के नामों की घोषणा के साथ अब भाजपा-कांग्रेस चुनाव मैदान में शह और मात की तैयारियों में जुट गई है। रविवार को पूर्व मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान पिपरिया में अपने प्रत्याशी के साथ समर्थन में सभा को संबोधित कर नरेंद्र मोदी को फिर प्रधानमंत्री बनाने का आग्रह किया है।

54 के राव के सामने 38 के शैलेन्द्र
भाजपा प्रत्याशी राव उदय प्रताप की बात करे तो उनकी उम्र 50 पार कर गई है वही कांग्रेस के शैलेन्द्र की उम्र 40 भी नही हुई। कांग्रेस ने शैलेन्द्र पर दांव खेलकर सबको चौका दिया। राव तीसरी बार लोकसभा चुनाव लड़ रहे है। उन्होंने पहला चुनाव कांग्रेस की सीट जीता था तो दूसरा भाजपा की सीट से वहीं कांग्रेस प्रत्याशी को राजनीति विरासत में मिली है उनके पिता दीवान चंद्रभान सिंह दिग्विजयसिंह की कैबिनेट में मंत्री रहे है। उन्हें टिकिट मिलने के पीछे का कारण नरसिंहपुर जिला लोधी बाहुल्य माना जाता है।

दिग्विजयसिंह के ख़ास होने का ईनाम
दिग्विजयसिंह की नर्मदा परिक्रमा के समय शैलेन्द्र सिंग उनके साथ रहे जिसका परिणाम बिना संसदीय चुनाव लड़े टिकट मिलना माना जा रहा है। उसके बाद दूसरा कारण विधानसभा चुनाव में तीन जिलों में कांग्रेस की जीत के पीछे भी शैलेन्द्र सिंग का ही नाम है। कांग्रेस से टिकट मिलने पर कोई गुटबाजी सामने नही आना ये भी बड़ा फैक्टर सामने आ रहा है। दूसरी बार लोकसभा चुनाव में मौका सामने आया है जब दोनों बड़े दल भाजपा और कांग्रेस होशंगाबाद जिले से प्रत्याशी का चयन नही कर पाई है। चुनाव बहुत ही रोचक होने वाला ये तो वक्त ही बताएगा की दल शह और किसको मात मिलती है।