सिवनी मालवा। भारत निर्वाचन आयोग द्वारा लोकसभा निर्वाचन-2019 की घोषणा के साथ ही आदर्श आचार संहिता प्रभावशील हो गई है। रिटर्निंग अधिकारी रविशंकर राय के द्वारा लोकसभा निर्वाचन-2019 को दृष्टिगत रखते हुए लाउडस्पीकर के अनियंत्रित उपयोग से होने वाली जन परेशानी, ध्वनि प्रदूषण तथा शांति व्यवस्था के हित में मध्यप्रदेश कोलाहल नियंत्रण अधिनियम 1985 के अंतर्गत तत्काल प्रभाव से 27 मई 2019 तक के लिए विहित प्राधिकारी की लिखित अनुज्ञा के बिना ध्वनि विस्तारण यंत्रों का उपयोग पूर्णतः प्रतिबंधित किया गया है।

रिटर्निंग अधिकारी ने रात्रि 10 बजे से प्रातः 06 बजे तक के बीच किसी भी स्थान पर ध्वनि विस्तारक यंत्रों का उपयोग पूर्णतः प्रतिबंधित कर दिया है। आमसभा, जुलूस एवं प्रचार कार्य के लिए लाउडस्पीकर तथा ध्वनि विस्तारक यंत्रों के प्रयोग की अनुमति ग्रामीण तथा नगरीय क्षेत्रों में प्रातः 06 बजे से रात्रि 10 बजे के मध्य ही दी जा सकेगी। ध्वनि विस्तारक यंत्र के रूप में डीजे का उपयोग पूर्णतः प्रतिबंधित रहेगा। अनुमति के निर्दिष्ट अवधि के पश्चात लाउडस्पीकर या संबंधित उपकरण का उपयोग करने पर जप्त कर नियमानुसार कार्यवाही की जाएगी।