मदन शर्मा/होशंगाबाद। विंध्याचल पर्वत और रातापानी अभ्यारण से आठ बाघो का कुनवा जंगल से निकलकर बसाहट के करीब आ गया है। इस कारण पिछले एक महीने से बुदनी से रेहटी तक 40 गांव में दहशत का माहौल है। बाघो को लेकर वन विभाग ने अलर्ट जारी किया है। वहीँ हाईवे 69 पर राहगीरों को सचेत करने के लिए जगह जगह बोर्ड भी लगाये गए है। बाघो ने एक महीने में दो मासूमो को मौत के घाट भी उतार दिया है।

दरअसल बुदनी से रेहटी तक 40 गाँवो के आसपास बाघो की चहल कदमी के निशान मिले है। दहशत में ग्रामीण शाम होते ही घरो में दुबक रहे है। वन विभाग ग्रामीण इलाको में मुनादी करा रहा है। बाघ आये दिन ग्रामीणों को दिखाई दे रहे है।

जंगल से निकलकर रहवासी इलाकों में आठ बाघो की पिछले एक माह से चहलकदमी नजर आने और दो मासूमों की मौत से वन विभाग ने नेशनल हाईवे 69 पर मिडघाट क्षेत्र में सतर्कता के बोर्ड लगा दिए है। इन बोर्डो पर लिखा है बाघ विचरण क्षेत्र प्रवेश निषेद।

अब तक दो लोगों की जान ले चुका है बाघ
बुदनी तहसील के खांडावर गांव में 22 अक्टूबर को 5 वी की छात्रा अपने भाई और बहन के साथ जंगल गई थी। तभी उस पर बाघ ने हमला किया था। उसके बाद उसकी मौत हो गई। उसी प्रकार 13 नवंबर को बाघ ने बुदनी टीटीसी के पीछे बुदनी निवासी 9 वर्षीय शेखर जो अपने माता पिता के साथ लकड़ियां लेने गया था, तभी बाघ उसे झाड़ियों में खींचकर ले गया था। जिससे उसकी मौत हो गई थी।

वनविभाग के अनुसार 8 बाघ दिखाई दे रहे है
बुदनी के पास गुरुवार को खटपुरा में बाघ एक यात्री बस के सामने आ गया था वही शुक्रवार को बाघ ने बांसापुर में एक गाय और ऊँचा खेड़ा में एक भैस का शिकार किया है। वनविभाग की माने तो गडरिया नाला जोशीपुरा, जर्रा, खांडाबड़, भीमकोटि, ऊँचा खेड़ा, वर्धमान फैक्टरी के आसपास बाघों की गतिविधियां देखी गई है। वनविभाग से मिली जानकारी के अनुसार वन क्षेत्र में 8 बाघ होने की संभावना है।

रहवासी क्षेत्र में मिल रही दो बाघों को लोकेशन
गुरुवार और शुक्रवार को बाघ ने गाय और भैस का शिकार किया है। शिकार जिस स्थान पर किया गया है। वो लोकेशन रहवासी क्षेत्र के नजदीक ही बनी हुई है। बुदनी के आसपास जंगल से सटे गांवों में बाघ की दहशत से ग्रामीण बहुत डरे हुए है।

24 गांवों को वनविभाग ने हाईअलर्ट किया
वन विभाग 24 गांवो को अतिसंवेदनशील मान रहा है। इन गांवों के आसपास बाघ की ज्यादा गतिविधिया पाई गई है। इन गांवों में वनविभाग जिप्सी में माईक लगा कर मुनादी करवा चुका है। साथ ही ग्रामीणों के साथ लगातार चर्चा कर रहा है। बुदनी के पास वनविभाग ने अपना कंट्रोल रूम बनाया है। जिसमे 19 कर्मचारियों के साथ ही जंगल में दौड़ने वाली जिप्सी और उपकरणों से लैस किया गया है।

इनका कहना है
गुरुवार को खटपुरा के पास एक बाघ बस के सामने आ गया था। 40 गांवो में बाघ की दहशत बनी है। जिसमें 24 को हाई अलर्ट शुक्रवार को ऊंचा खेड़ा में बाघ ने गाय का शिकार किया है। 24 गांवो को अतिसंवेदनशील कर उनकी सुरक्षा बढ़ाई है। बुदनी में कंट्रोल रूम बनाया गया है जिसमें 19 कर्मचारियों को तैयार किया है। ग्रामीणों से बात कर उन्हें जंगल में जाने से मना किया है। अभी गड़रिया नाला, जोशीपुर,जर्रापुर पर लोकेशन मिल रही है।
एस एन खरे रेंजर वनविभाग बुदनी