सिवनी मालवा। प्रजातंत्र के महाकुंभ रूपी चुनाव के आते ही कई राजनीतिक नेता एवं महत्वाकांक्षी व्यक्ति इस राजनीतिक चुनाव के महाकुंभ में गोता लगाने की तैयारी में खड़े दिख रहे है, मध्य प्रदेश की राजनीतिक बिसात पर अभी तक दो राष्ट्रीय पार्टियों का ही वर्चस्व रहा है परंतु इस बार इन दोनो राजनीतिक पार्टियों के गले की फांस बन चुके तीन हीरे अपने अपने क्षेत्र में दमखम के साथ अपनी अपनी चमक बिखेरने को लालायित है।

जिसमें पहला हीरा है हीरासिंह मरकाम राष्ट्रीय अध्यक्ष गोंडवाना गणतंत्र पार्टी, इनका जन्म छत्तीसगढ़ के जिला कोरबा के पालीतनाखर में हुआ था हीरा सिंह पूर्व में विधायक भी रह चुके है। आदिवासी समुदाय में ये गोंडवाना रत्न के नाम से भी जाने जाते है। इनका उद्देश्य गोंडवाना राज्य की स्थापना करना है जिसको लेकर सभी गोंड समाज को इनके द्वारा एकत्रित किया गया है एवं बहुत ही बड़ी संख्या में इनके कार्यकर्ता एवं पदाधिकारी सभी आदिवासी क्षेत्रों में घूम घूम कर एक करने की कोशिश में लगे हुए।

दूसरा हीरा डॉक्टर हीरालाल अलावा जिनकी सिर्फ उम्र ही कम है बाकी हौसले इतने बुलंद है कि उन्होंने दिल्ली एम्स में नौकरी छोड़ अपने ही गृह नगर धार के मनावर में क्लीनिक खोल लिया एवं (जय आदिवासी युवा शक्ति) जयस नामक पार्टी बनाई जिस का प्रचार प्रसार पूरे देश में बहुत ही तेजी से हो रहा है।

तीसरा हीरा डाक्टर हीरालाल त्रिवेदी जो सपाक्स के प्रदेश अध्यक्ष माने जाते हैं एवं पूर्व रिटायर्ड आईएएस भी रह चुके हैं जैसा की आप सभी जानते हैं की एट्रोसिटी एक्ट के विरोध में प्रदेश में ही नहीं बल्कि पूरे देश में सभी जगह बड़े बड़े आंदोलन हुए जिसके बाद पूरे प्रदेश में सपाक्स से बड़े-बड़े आईएस आईपीएस एवं सवर्ण समाज के लोग जुड़े हैं जो कहीं ना कहीं सत्ता परिवर्तन करने की ताकत रखते हैं और सुनने में आ रहा है की सपाक्स मध्यप्रदेश विधानसभा में सभी सीटों पर अपने उम्मीदवार पूरे दमखम के साथ उतारेगी।

इन तीन हीरे की चमक से राष्ट्रीय पार्टियों के साथ ही अन्य दल भी इन की चमक के सामने फीके पड़ते नजर आ रहे हैं। परिस्थितियां यहां तक बन गई है कि जयस संगठन ने निमाड़ मालवा अंचल में पहली बार छात्र संघ चुनाव में भाग लेकर दोनों ही राष्ट्रीय पार्टियों के छात्र संगठन को धूल चटाते हुए अपना परचम फहराकर हीरे की चमक का एहसास करा दिया है।

वही गोंडवाना गणतंत्र पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष हीरा सिंह मरकाम आदिवासी क्षेत्रों में बहुत ही लोकप्रिय है। जिसमें गोंड समाज के समाज जन इनको महापुरुष की तरह मानते हैं। यह पूर्व में भी विधायक रह चुके हैं और अब प्रदेश ही नहीं राष्ट्रीय स्तर पर भी अपनी चमक बिखर रहे है।

अब हम बात कर रहे हैं तीसरे हीरे की यह है हीरालाल त्रिवेदी अध्यक्ष सपाक्स पार्टी मध्य प्रदेश हरिजन आदिवासी एक्ट को लेकर हीरालाल त्रिवेदी ने एक चिंगारी जलाई थी जो प्रदेश सहित पूरे देश में ज्वाला बन कर फेल गई है। एक्टोसिटी एक्ट के सहारे यह हीरा भी अपनी चमक बिखेरने के लिए कमर कस कर खड़ा नजर आ रहा हैं। सपाक्स संगठन के कर्ताधर्ताओं का मानना है कि भले ही हमारे पास संगठन मजबूत नहीं है, परंतु आदिवासी हरिजन एक्ट रूल को लेकर संपूर्ण समाज में जो अंडरकरेंट चल रहा है उनको भावात्मक रूप से जोड़कर दोनों ही राष्ट्रीय पार्टियों को भयभीत कर रखा है। सपाक्स संगठन से जुड़े लोगों ने दोनों ही राष्ट्रीय पार्टी के नेताओं को कई जगह तगड़ा विरोध कर दिखाया है और आज जमीनी स्तर पर भी यह सब परिलक्षित हो रहा है। हमने तीनों हीरे की बात करी जिसमें हीरा सिंह मरकाम, हीरालाल अलावा और हीरालाल त्रिवेदी यह तीन हीरे शिवराज सिंह और कमलनाथ की गले की फांस बने हुए हैं। इन हीरे ने दोनों पार्टियों के राजनीतिक समीकरण को बिगाड़ कर रख दिया है।

अब हम स्थानीय विधानसभा सिवनी मालवा की बात करते हैं जहां पर अभी तक दोनों ही राष्ट्रीय पार्टियां अपना वर्चस्व कायम करने में सफल रही है परंतु इस चुनाव में इन पार्टियों को इन नए उभरते हुए हीरे से सतर्क रहना होगा क्योंकि विगत दिनों में विधानसभा सिवनीमालवा में गोंडवाना गणतंत्र पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष हीरा सिंह मरकाम के प्रमुख सिपहसालार कुंवर बलवीर सिंह तोमर विगत 1 वर्षों से सक्रिय हैं जिन्होंने पार्टी के लिए अपनी जमीन तैयार कर दी है।
वहीं दूसरे हीरे डॉक्टर हीरालाल त्रिवेदी की सपाक्स भी एक्ट्रोसिटी एक्ट के विरोध के सहारे इन पार्टियों को अपनी ताकत दिखाने के लिए तैयारी में है।

अब हम तीसरे हीरे डॉक्टर हीरालाल अलावा की बात करते हैं वह गोंडवाना गणतंत्र पार्टी के कुंवर बलवीर सिंह तोमर से मित्रवत व्यवहार करते हुए अंदर खाने गोंडवाना को सपोर्ट कर यहां के समीकरण को ध्वस्त कर सकते है। अब इनके अलावा हम सामान्य राजनीति की ओर कदम रखते हैं तो देखते हैं कि यहां पर नई पार्टियों की बाढ़ सी आ गई है जिसमें आम आदमी पार्टी से पहली बार सिवनी मालवा विधानसभा में यहां की आवाम को पहली बार एक योग्य शिक्षित महिला प्रत्याशी दिया है जिन्होंने ग्रामीण अंचलों में अपना प्रचार भी शुरू कर दिया है। अभी बहुजन समाज पार्टी का प्रत्याशी भी आना बाकी है तथा समाजवादी जनपरिषद से फागराम प्रत्याशी के रूप में नजर आयेंगे और तो और सिवनी मालवा विधानसभा में एक नई पार्टी का उदय भी हो चुका है जिसका नाम है नया भारत पार्टी जिसका प्रत्याशी नरेंद्र सिंह रघुवंशी भी अपने अकेले दम पर इस चुनाव रूपी चट्टान में हथौड़ी मार कर दरार पैदा कर अपने लिए स्थान बनाने के प्रयास में लगे हुए हैं।

इस इलाके के राजनेता या जनप्रतिनिधि भले ही यहां की आवाम को निराश करते रहे हो पर अब विधानसभा चुनाव आ चुका है एवं सभी मतदाताओं को लुभाने के लिए अपने अपने तरीकों से जुट गए हैं अब देखना यह है कि किसके साथ सजेगा जीत का ताज एवं किसको हार का मुंह देखना होगा।