मोहम्मद वसीम/बुरहानपुर। शिवसेना के बैनरतले पिछले 23 दिनो से भ्रष्टाचारी सरपंच और सचिवो पर धारा 40 और धारा 92 की कार्यवाही पर अमल किए जाने को लेकर हडताल की जा रही थी जो मंगलवार को नाटकीय ढंग से जिला प्रशासन ने मौके पर पहुंच कर हडताल पर बैठे शिव सैनिक ग्रामीणों को कोल्ड्रींगस पिलाकर समाप्त करा दी। शिवसेना के द्वारा पिछले 23 दिनो से क्रमिक भूख हडताल कर भ्रष्टाचारी सरपंचो और सचिवों पर कार्यवाही की मांग की जा रही थी परंतु जिला प्रशासन इस पर कोई ध्यान नही दे रहा था जिस के चलते सोमवार को हडताली शिव सैनिक ग्रामीणो ने जिला पंचायत कार्यालय पहुंच कर कान खोलो प्रदर्शन के तहत थाली और बाजे बजाकर प्रदर्शन करते हुए एक स्मरण पत्र देकर जिला पंचायत के अधिकारीयों को कार्यवाही के लिए एक सप्ताह का अल्टीमैटम दिया था जिस में कहा गया था कि यदि एक सप्ताह के भीतर धारा 40 और 92 के दोषी सरपंचो और सचिवों पर कोईकार्यवाही नही की गई तो वह आगामी एक सप्ताह के बाद जिला पंचायत के अधिकारीयों को चूडीयां पेश करेगे।

हडताली ग्रामीणो के इस अल्टीमेटम से जिला प्रशासन दबाव में आया और मंगलवार को आनन फानन में सिटी मजिस्ट्रेट पुलिस बल को साथ लेकर मौके पर पहुंचे और हडताल की अनुमति नही होने का कहकर हडताली शिव सैनिको को कोल्ड्रींगस पिलाकर हडताल समाप्त करा दी। ज्ञात हो की धारा 40 और धारा 92 के तहत केस में दोनो ही गुट के नेताओं के लोगों के फसे होने से इस मामले पर जिला प्रशासन कोई कार्यवाही नही कर पाया जिस को लेकर शिव सेना ने मोर्चा संभाला परंतु जिला प्रशासन ने हडताल की अनुमति नही होने का कहकर उन्हें भी मैदान से बाहर कर दिया और 23वें दिन यह हडताल समाप्त हो गई।