संजीव डोंगरे मो.नं. 9425006543

सारनी -अनुविभागीय दण्डाधिकारी शाहपुर को वन मंडलाधिकारी उत्तर वन मंडल बैतूल द्वारा पत्र द्वारा सूचित किया गया कि वन मंडल के अंतर्गत सारनी शहरी क्षेत्र में एक दिसंबर 2018 से निरंतर बाघ की उपस्थिति बनी होने तथा बाघ के द्वारा लगातार बस्तियों के आसपास विचरण करने से उक्त क्षेत्र में निवासरत आम जनता की जान को खतरा उत्पन्न हो गया है।

उक्त संबंध में बाघ को पकडऩे हेतु वन विभाग द्वारा उक्त क्षेत्र में रेस्क्यू ऑपरेशन का संचालन किया जा रहा है। अनुविभागीय दण्डाधिकारी शाहपुर श्री श्रवण कुमार भंडारी द्वारा ऐसी स्थिति में आम जनता के आवागमन को रोकने की दृष्टि से दण्ड प्रक्रिया संहिता 1973 की धारा 144 के प्रावधानों के अंतर्गत 4 दिसंबर 2018 से रेस्क्यू ऑपरेशन की समाप्ति तक के लिए संपूर्ण सारनी नगर पालिका क्षेत्र सीमा में सार्वजनिक स्थान पर एक साथ पांच या उससे अधिक व्यक्तियों का आवागमन पूर्णत: प्रतिबंधित किया गया है। इस आदेश का उल्लंघन भारतीय दण्ड संहिता की धारा 188 के अंतर्गत दण्डनीय होगा।
यह आदेश कत्र्तव्यस्थ दण्डाधिकारी, पुलिस बलों, केन्द्र शासन/राज्य शासन के विभागों में कार्यरत अधिकारियों, केन्द्र शासन/राज्य शासन के उपक्रमों के अधिकारी/कर्मचारी तथा बैंक की सुरक्षा में लगे सुरक्षाकर्मियों पर लागू नहीं होगा।  यह आदेश आम जनता को संबोधित है किन्तु वर्तमान परिस्थितियों को देखते हुए समयाभाव के कारण प्रत्येक व्यक्तियों को व्यक्तिश: सुनवाई का अवसर प्रदान किया जाना संभव नहीं है। अत: यह आदेश दण्ड प्रक्रिया संहिता 1973 की धारा 144 (2) के अधीन एकपक्षीय रूप से पारित किया गया है।