संजीव डोंगरे / सारनी – नगर के जैरी चौक शोभापुर में ब्लॉक कांग्रेस कमेटी सारनी के द्वारा भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस पार्टी का 133 वां स्थापना दिवस मनाया गया । जिसमें कांग्रेस के सभी विंग के पदाधिकारी एवं कार्यकर्ता हुए शामिल ।

ब्लॉक कांग्रेस कमेटी सारनी के अध्यक्ष भगवान जावरे ने बताया कि कांग्रेस पार्टी के स्थापना दिवस पर हुए कार्यक्रम में सैकड़ों पदाधिकारी एवं कार्यकर्ता उपस्थित होकर अपने अपने विचार रखे । पार्टी के स्थापना दिवस के साथ कांग्रेस सेवादल का भी आज ही 95 वां स्थापना दिवस मनाया । सभी के उद्बोधन के बाद मिठाई वितरण किया गया । कार्यक्रम के दौरान सभी पदाधिकारी एवं कार्यकर्ताओं ने एकजुट होकर देश और जनहित में कार्य करने की संयुक्त रूप से शपथ ली । स्थापना दिवस के कार्यक्रम में उपस्थित पदाधिकारियों ने अपने-अपने विचार व्यक्त किये।
जिसमें एसके उपरीत ने कहा कि कांग्रेस पार्टी हमेशा सर्वकालीन प्रासंगिक पार्टी रही है आजादी की लड़ाई से लेकर औद्योगिकीकरण राष्ट्रीयकरण हरितक्रांति संचारक्रांति एवं मनरेगा जैसे राष्ट्रीय उत्थान के महत्वपूर्ण कार्य किए हैं ।
मोहम्मद इलियास ने कहा देश की स्वतंत्रता से लेकर समाज के सभी वर्गों को समानता भाईचारा एवं समाज के अंतिम छोर के व्यक्ति के विकास के लिए कार्य किया गया है ।
अवधेश सिंह ने कहा कांग्रेस पार्टी ने अंग्रेजो को भारत से भगाकर देश के नागरिकों को उनका अधिकार दिलाकर देश का सर्वांगीण विकास कर देश को उन्नति के पथ पर अग्रसर किया ।
नेहरू सिंह राजपूत ने बताया कि शिक्षा की समानता आर्थिक समानता राजनीतिक समानता गरीबी उन्मूलन जैसे रचनात्मक कार्य कर देश को व्यवस्थित किया ।
श्रीमती वैशाली रौतिया ने कहा कि कांग्रेस पार्टी ने विशेषकर महिलाओं के उत्थान में भागीदारी को सुनिश्चित कर महिलाओं का भला किया है ।
श्रीमती योगिता डोईफोडे ने कहा अनुसूचित जाति जनजाति एवं पिछड़ा वर्ग के लोगों को हर क्षेत्र में आरक्षण देकर समाज के निचले स्तर से लोगों का विकास किया ।
भगवान जावरे ने कहा कि 28 दिसंबर 1885 को भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस की स्थापना की इसको आधार बनाकर महात्मा गांधी बाल गंगाधर तिलक पंडित जवाहरलाल नेहरु जी ने देश की स्वतंत्रता में कांग्रेस पार्टी द्वारा महत्वपूर्ण प्रमुख भूमिका निभाई ।
सभी पदाधिकारियों के उदबोधन के पश्चात शपथग्रहण कर कार्यक्रम का समापन किया गया । कार्यक्रम में मुख्य रूप से अवधेश सिंह योगिता डोईफोडे मोहम्मद इलियास वैशाली रौतिया एसके उपरीत नसरीन कुरैशी नेहरू सिंह राजपूत भोला कांति मोहम्मद ताहिर मनोज पंडित विक्की सिंह राजेश डोईफोडे देवमन डेहरिया सुरेश पंड्या पिण्टीश नागले मनोज मानकर गणपति उबनारे राजू माने अविनाश सिंदूर रामदास गोहे नरेंद्र जायसवाल रतन स्वरूप सुनील भूमरकर अजय ब्रह्मवंशी नीरज ठाकुर चितरंजन खाड़े प्रतीक जावरे अनिल बघेल मुस्ताक कादरी लक्ष्मी गोहे माया वर्मा संगीता डहेरिया फैयाज अंसारी संगीता कापसे देवेंद्र कापसे हुसैन अंसारी मनोज वाघमारे सहित अन्य कार्यकर्ता मौजूद थे।