संजीव डोंगरे / सारनी – नगर पालिका परिषद सारनी के सभागार में गुरुवार को दोपहर 12:30 बजे से परिषद का प्रथम सम्मिलन का आयोजन किया गया था। जिसमें नपाध्यक्ष श्रीमती आशा भारती , नपा सीएमओ पवन कुमार राय नपा उपाध्यक्ष भीम बहादुर थापा , नपा नेताप्रतिपक्ष कैलाश चंद्र (संजय) अग्रवाल , समस्त वार्डों के पार्षद सहित नपा के कर्मचारी अधिकारी शामिल हुए ।

नपा के प्रथम सम्मेलन में 4 एजेंडों को शामिल किया गया था , जिसमें प्रथम बिंदु ऑडिटर द्वारा फाइलों में लगाए गए आपत्तियों के निराकरण का था जिसे समस्त पार्षदों ने नकार दिया क्योंकि इस संबंध में पार्षदों को पूर्व में कोई जानकारी नहीं दी गई थी । इसके अलावा बाबा मठारदेव मेले में होने वाली प्रशासकीय स्वीकृति पर चर्चा हुई जिसे सर्वसम्मति से पास किया गया । साथ ही नपा के निर्वाचित पार्षदों के पारिश्रमिक तथा भत्ते में वृद्धि पर भी सहमति दी गई ।

परंतु चौथे बिंदु नगरीय क्षेत्र में समस्त 36 वार्डों के पार्षदों की अनुशंसा पर पांच-पांच लाख रुपये प्रतिवार्ड निर्माण एवं विकास कार्य करने की बात पर नपा नेता प्रतिपक्ष कैलाश चंद्र ( संजय ) अग्रवाल ने अपनी तीखी प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि वार्ड पार्षदों को खुश करने के लिए केवल 5-5 लाख रूपये के विकास एवं निर्माण कार्यों का लॉलीपॉप दे दिया गया है परंतु वास्तविकता यह है कि नवनिर्वाचित परिषद के बाद किसी भी वार्ड में कोई विकास कार्य नहीं हो पाए हैं जिसके कारण पार्षदों को तो अपने वार्डों में जाना भी मुश्किल हो गया है।

उन्होंने कहा कि वार्डों में विकास एवं निर्माण कार्यों की बात करने पर नपा द्वारा यह जवाब दिया जाता है कि सभी कार्य ऑनलाइन टेंडरिंग के माध्यम से हो रहे हैं । परंतु वास्तव में नगर पालिका में एक लाख से कम के ऑफलाइन फाइलें बनाकर ( टेंडर) अपने प्रिय ठेकेदारों को लाभ पहुंचाने का कार्य जोरो से किया जा रहा है । जिसमें 49-49 हज़ार से लेकर 98-98 हज़ार रुपए तक के कई फाइलें (टेंडर ) निकालकर अन्य कार्य कराए जा रहे हैं परंतु वार्डों में कोई विकास या निर्माण कार्य नहीं कराए जा रहे हैं ।

स्वच्छता सर्वेक्षण को लेकर भी भारी वित्तीय अनियमितता करने का आरोप लगाते हुए कहा की केवल होर्डिंग्स एवं बेनर लगाकर स्वच्छता का गुणगान गाया जा रहा है । मुख्य सड़क की सफाई के नाम पर अपने चहेते ठेकेदार को लाभ पहुचाने के लिए ऑफलाइन फाइल बनाकर टेंडर दिया जा रहा है । जबकि वास्तव में वार्डों में सफाई व्यवस्था चरमरा गई है।

पूरे सम्मिलन के दौरान केवल नपा सीएमओ एवं पार्षदों के बीच चर्चाएं हुई और नपा उपाध्यक्ष , नपा नेता प्रतिपक्ष एवं पार्षदों के द्वारा उठाए गए विभिन्न सवालों के जवाब केवल सीएमओ ने ही दिए । सम्मेलन के दौरान नपाध्यक्ष ने कोई उद्बोधन नहीं दिया केवल अपनी उपस्थिति दर्ज की।