सिवनी मालवा। ग्राम चापड़ा ग्रहण में सात दिवसीय भागवत कथा का शुभारंभ आज राधा कृष्ण मन्दिर से कलश यात्रा निकाल किया गया।जिसका सभी गाँव वालो ने फूल से कलश यात्रा का स्वागत किया। आयोजनकर्ता ने बताया कि भागवत कथा का वाचन संत भक्त पंडित भगवती प्रसाद तिवारी के द्वारा किया जाएगा।

भागवत कथा के प्रथम दिवस पंडित भगवती प्रसाद तिवारी ने बताया की प्रत्येक मनुष्य सत्कर्म के द्वारा महान बन सकता है। जितने भी महान महापुरुष हुए हैं और आज भी जिनको आप मानते हो, आदर देते हो, उनका शरीर भी पांच तत्व का हमारे जैसा ही होता है। हम सभी को उनके जैसा आचरण दिनचर्या व्यवहार सत्कर्म करना पड़ेगा तभी हम महान कार्य कर सकते हैं। सुखदेव जी महाराज ने राजा परीक्षित को यही ज्ञान दिया था। जन्म से हर कोई महान नहीं होता लेकिन सत्कर्म से हर कोई महान बन सकता है।

हर मनुष्य को एक क्षण एक-एक कण का सदुपयोग करना चाहिए। जो हम दूसरों से चाहते है वही दूसरों को पहले देने से मिलता है। जो हमने दिया है वही अनंत गुना होकर वापस मिलेगा। तुम सेवा चाहते हो तो पहले सेवा करो, मान चाहते हो तो मान दो, यश चाहते हो तो, सुख चाहते हो, शांति चाहते जो भी आप अपने लिए चाहते हो उसे दूसरों को देना शुरू करो। अगर कभी आप दुख देते हो तो दुःख, अपमान बुराई निंदा जो देते हो बदले वही अनंत गुना होकर तुम्हें मिलेगा। तुम चाहे मंदिर में ना जाओ, कथा में ना जाओ, तीरथ में ना जाओ कोई बात नहीं तुम सदा मंदिर में ही हो ऐसा मानकर सद्व्यवहार, सदाचरण सदा करते रहना चाहिए यही ईश्वर की सच्ची भक्ति सच्ची कमाई का एक-एक रुपया हीरे के बराबर होता है। बेईमानी, झूठ, धोखा, भ्रष्टाचार की कमाई कचरे के बराबर हो जाती है।

धन धर्म पूर्वक कमाये अधर्म, झूठ, पाप से नहीं। रावण, कंस, दुर्योधन आदि बहुत बड़े धन, पद, बलशाली थे सबका नाश हो गया। सत्कर्म, ईमानदारी, न्याय, नीतिपूर्वक कर्म करने से जो सुख शांति आनंद मिलता है वह दोष रहित दुख रहित होता है। नित्य शास्वत रहता है। पाप, झूठ से मिलने वाला सुख दोष युक्त दुखदाई ही होता है। लौकिक, भौतिक सुख भोगने से तृष्णा बढ़ती है परंतु ईश्वर धर्म सत्य का पालन करने से तृष्ण की समाप्ति होती है। गौ माता की रक्षा सेवा पालन करने सारे देवी देवता की सेवा हो जाती है। गौ दर्शन नित्य करना चाहिए। गाय माता चलता फिरता एक मंदिर के समान है ऐसा भाव रखते हम सभी को गाय की रक्षा पालन पर विशेष ध्यान देना चाहिए।