नई दिल्ली। देश के संसदीय इतिहास में आनंदीबेन पटेल का नाम एक ही दिन में दो राज्यों मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्रियों और मंत्रिमंडल के अन्य सदस्यों को शपथ दिलाने वाले पहले राज्यपाल के रूप में दर्ज हो गया है। पटेल ने मंगलवार को दोनों राज्यों के मंत्रिपरिषद के सदस्यों को शपथ दिलाई। हाल में सम्पन्न राज्य विधानसभा चुनावों में जीत हासिल करने के बाद कांग्रेस के मुख्यमंत्रियों ने एक ही दिन 17 दिसम्बर को शपथ लेने का फैसला किया।

आनंदीबेन पटेल को ही दोनों राज्यों में शपथ कराना था, इसलिए उनकी सुविधा के अनुसार दोनों राज्यों के मुख्यमंत्रियों के शपथ ग्रहण समारोह का समय तय किया गया। एक राज्यपाल द्वारा दो राज्यों का कार्यभार संभालने के अवसर कई बार आए हैं लेकिन यह स्थिति पहली बार बनी की किसी राज्यपाल को एक साथ एक ही दिन दो राज्यों के मुख्यमंत्रियों को शपथ दिलानी पड़ी।

संविधान के अनुच्छेद-153 में एक राज्य में एक राज्यपाल की नियुक्ति का प्रावधान किया गया है लेकिन राज्य पुनर्गठन से संबंधित वर्ष 1956 में किए गए सातवें संविधान संशोधन में किसी राज्यपाल को एक से अधिक राज्य का दायित्व सौंपे जाने का प्रावधान किया गया है। आमतौर पर पड़ोसी राज्य के राज्यपाल को ही दूसरे राज्य का कार्यभार सौंपा जाता है तथा यह व्यवस्था कुछ ही समय के लिए होती है।