भोपाल। मध्यप्रदेश में मंगलवार को शपथ ग्रहण के बाद मुख्यमंत्री कमलनाथ ने शाम को प्रदेश कांग्रेस कार्यालय में नवनियुक्त मंत्रियों के साथ बैठक की। इस बैठक में मुख्यमंत्री कमलनाथ ने मंत्रियों को दो टूक शब्दों में 2019 के लोकसभा चुनाव के लिए तैयार रहने को कहा। उन्होंने कहा कि राहुल गांधी को प्रधानमंत्री बनाना हमारा सपना है और इसके लिए अभी से तैयारियां शुरू की जानी चाहिए।

उन्होंने कहा कि विधानसभा चुनावों में जारी कांग्रेस के वचन पत्र को अमल में लाएं और जनहित के मुद्दों पर प्राथमिकता के साथ काम करें, ताकि जनता का विश्वास कांग्रेस के प्रति बना रहे। मुख्यमंत्री कमलनाथ ने मंगलवार शाम को अनौपचारिक बैठक में नवनियुक्त मंत्रियों से कांग्रेस के वचनपत्र में किए गए वादों को पूरा करने की रणनीति पर चर्चा की। इस बैठक में मंत्रियों के साथ पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह और सांसद कांतिलाल भूरिया भी शामिल थे। हालांकि, यह बैठक मंत्रियों के विभाग आवंटन पर चर्चा के लिए बुलाई गई थी, लेकिन इस मुद्दे पर बैठक में कोई चर्चा नहीं हुई। मुख्यमंत्री ने विभाग आवंटन के लिए बुधवार को मंत्रालय में सभी मंत्रियों की फिर बैठक बुलाई है।

बैठक खत्म होने के बाद मंत्री सज्जन सिंह वर्मा ने बताया कि बैठक में मंत्रियों के विभाग बंटवारे पर कोई चर्चा नहीं हुई। मुख्यमंत्री कमलनाथ ने मंत्रियों को कांग्रेस के वचन पत्र में जनता से किए गए वादों को पूरा करने के लिए काम करने की प्रतिबद्धता दिखाई। उन्होंने कहा कि सभी मंत्री जनहित के मुद्दों पर अधिकारियों से चर्चा कर जो महत्वपूर्ण काम हैं, उन्हें पूरा करें। उन्होंने यह भी कहा कि हमें भाजपा की तरह अपने वादों से मुकरना नहीं है। हमें जनता के बीच यह विश्वास और गहरा करना है कि कांग्रेस जो कहती है, वह करके दिखाती है। मंत्री गोविंद सिंह राजपूत ने कहा कि मुख्यमंत्री कमलनाथ ने सभी मंत्रियों से कहा है कि वह जनता के बीच जाकर कांग्रेस द्वारा किए गए वादों को पूरा करने का संदेश प्रदेश की जनता तक पहुंचाएं। उन्होंने कहा कि कांग्रेस हर हाल में अपने वचन को पूरा करेगी। कमलनाथ ने मंत्रियों को काम करने के तरीके बताए और उनकी राय ली।

कमलनाथ ने मंत्रियों से कहा कि हमें जनता की अपेक्षाओं पर खरा उतरना है। उन्होंने कहा कि हमारे पास समय कम है और काम ज्यादा। इसलिए पहले उन कामों को हाथ में लें जिनके परिणाम जल्दी मिल सकें। मंत्री बाला बच्चन ने बताया कि राज्य के विकास के लिए मुख्यमंत्री कमलनाथ ने रोडमैप तैयार कर लिया है और हम सभी उसके अनुरूप कार्य करेंगे। रोडमैप के अनुरूप ही कार्य करना उनकी प्राथमिकताएं हैं। नयी सरकार बनने के बाद अब राज्य के विकास का कार्य तेजी से होगा। उन्होंने बताया कि मुख्यमंत्री ने बुधवार को मंत्रालय में मंत्रिपरिषद की बैठक बुलाई है, जिसमें अधिकारियों से चर्चा करने के बाद मंत्रियों को उनके विभागों का आवंटन किया जा सकता है।