गुलशन यादव/शिवपुर। मध्यप्रदेश सरकार के मुखिया शिवराज सिंह चौहान जहां एक और छात्राओं का मामा कहलाने से नहीं थकते है। वहीं भांजियों शराब दुकान हटाने को लेकर आए दिन ज्ञापन सौप सौप कर परेशान है। ऐसा ही नजारा फिर एक बार 1 दिसंबर को को टप्पा तहसील शिवपुर में नजर आया, जहां छात्राएं पालकों सहित पहले ग्राम पंचायत उपसरपंच सोमेंद्र मंडलोई के पास स्कूल के पास से शराब दुकान हटाने के लिए पहुंची और उसके बाद फिर थाना प्रभारी आशुतोष उपाध्याय को ज्ञापन सौंपा और बताया कि आए दिन शराबी स्कूल आते जाते परेशान करते है। वहीं स्कूल में ही शराब की बांटले फेंक देते है। जिससे हम कांफी परेशान है। हमारी मांग है कि एक सप्ताह के अंदर स्कूल के पास से शराब दुकान हटाई जाए। जिससे हम अपने आप को सरक्षित महसूस कर सकें।

गांव गांव बिक रही शराब पर नहीं लगा अंकुश
गांव गांव किराना सहित पान दुकानों सहित घरों से बिक रही शराब पर भी आज तक न तो आबकारी विभाग अंकुश लगा पाया है और न ही पुलिस विभाग। सभी की मिलीभगत से खुलेआम शराब ठेकेदार ग्रामीण क्षेत्रों में अवैध शराब की सप्लाई कर रहे है।

शराब बैठाकर पिलाने के लिए आए दिन खुल रहे ढाबे
शहरी एंव ग्रामीण क्षेत्र में होटलों एंव ढाबे आए दिन केवल इसलिए खोले जा रहे है कि वहां शराब परोसी जा सकें। सुकून से बैठकर पीने के लिए इन होटलों एंव छोटे छोटे ढाबों पर दिन रात भीड़ लगी रहती है। लेकिन सबकुछ जानकारी होने के बाद भी कार्यवाही नहीं कि जाना समझ से परे है।