सिवनी मालवा। प्रसिद्ध पौराणिक स्थल नर्मदा तट आंवलीघाट में नर्मदा स्नान करने के लिए सोमवती अमावस्या के दिन भारी भीड़ उमड़ी,परन्तु प्रशासन के द्वारा किये जाने वाले पुख्ता इंतजाम कही नजर नहीं आये। सोमवार की सुबह से ही हजारों भक्तों ने नर्मदा में डुबकी लगाना शुरू कर दिया जिसका सिलसिला देर रात तक चलता रहा। भारी भीड़ को देख एसडीओपी अजय संगर ने ने मोर्चा सँभालते हुए सभी को निर्देशित किया और नर्मदा माँ के भक्तो को समझाईस दी।

पोंराणिक स्थल आंबलीघाट में पुख्ता नही इंतजामातसिवनी मालवा तहसील में नर्मदा नदी के बावरीघांट, भिलाडिया घाट, भेला, आयपा पथाडा जैसे अन्य घाट भी है, लेकिन आंबलीघांट का विशेष एव पोराणिक महत्व है। सोमवती अमावस्या पर हजारों की संख्या में श्रद्धालु भक्त नर्मदा में डुबकी लगाने आते है और प्रशासन के द्वारा पर्याप्त व्यवस्था की जाती है परंतु इस बार यहां ना तो किश्ती दिखाई दे रही है ना ही पुलिस बल पर्याप्त था। जबकि भीड़ को देखते हुए पुलिस बल की संख्या बढ़ाई जाना था परंतु यहां कुछ ही पुलिस कर्मियों को लगाया गया। सोमवती अमावस्या पर भारी भीड़ लगी होती सोमवती अमावस्या का पौराणिक महत्व होने के नाते दूर दूर से श्रद्धालु भक्त आंवलीघांट में स्नान करने आते हैं ओर स्नान कर धर्म लाभ प्राप्त करते हैं।

नर्मदा प्रदूषण करने में लगे भक्त
नर्मदा में स्नान कर कपड़े धोने और फूल नारियल पन्नी सहित अन्य सामग्री चढ़ा नर्मदा प्रदूषण कर रहे है। नर्मदा किनारे फूल नारियल पन्नियां एकत्रित होने से गंदगी किनारों पर जमा हो गई है। स्नान करने बाले नर्मदा में कपड़े भी धो रहे है ओर साबुन से स्नान कर नर्मदा को प्रदूषित करने में लगे है। नर्मदा प्रदूषण से बचाने के लिए अनेक संगठनों द्वारा समझाइश दी जाती है परंतु समझाइस के बावजूद भी किनारों पर घाटों पर गंदगी पसरी हुई है।