होशंगाबाद। छात्र संघ चुनाव को लेकर एनएसयूआई ने व्यय का ब्योरा न देने पर इसकी शिकायत शासकीय नर्मदा महाविद्यालय प्राचार्य से की थी। लेकिन कोई जवाब ना मिलने के बाद एनएसयूआई ने कालेज में जम के हंगामा कर प्रदर्शन किया था। उसके बाद भी इस पूरे मामले पर कालेज प्रबंधन व चुनाव प्रभारी चुप्पी साध के मौन रहे। जबकि छात्र संघ चुनाव की नियम पुस्तिका में स्पष्ट लिखा था कि चुनाव परिणाम के 7 दिवस के अंदर व्यय का ब्योरा देकर 2 दिन में कालेज को सार्वजनिक करना होगा। लेकिन इसका पालन नही किया गया। जिसको लेकर अब एनएसयूआई ने हाई कोर्ट की शरण ली है।

याचिका अभिषेक सोनी पिता दयाराम सोनी के द्वारा दायर की गई है जिसमे सचिव उच्च शिक्षा विभाग भोपाल, संभागायुक्त होशंगाबाद, कलेक्टर होशंगाबाद, पुलिस अधीक्षक होशंगाबाद एवं शासकीय नर्मदा महाविद्यालय प्राचार्य को पार्टी बनाया गया है। जिसका याचिका क्रमांक 23047/2017 है।