कंप्यूटर सेंटर के लोकार्पण में दिखा गुटबाजी का उत्कृष्ट उदाहरण सांसद गुट रहा उपस्थित तो विधायक गुट रहा नदारद

सिवनी मालवा। भाजपा की आपसी गुटबाजी आजकल हर कार्यक्रम में नजर आने लगी है। वही अब भाजपा संग़ठन के पदाधिकारी भी शासकीय भवनों का लोकार्पण करते नजर आने लगे है। जो शहरी एवं ग्रामीण क्षेत्र में चर्चा का विषय बन गया है।

सोमवार के दिन थाने की पीछे बने इलेक्ट्रॉनिक्स विकास निगम के कंप्यूटर सेंटर लोकार्पण कार्यक्रम के आमंत्रण पत्र में भाजपा प्रदेश कार्यकारणी सदस्य संतोष पारिख एवं नगर मंडल अध्यक्ष सचिन अग्रवाल का नाम नही था। वहीं आज लोकापर्ण कार्यक्रम में भी सांसद गुट के जनप्रतिनिधि ही नजर आए, वही विधायक गुट के लोग नदारद रहे।

सेंटर का लोकापर्ण भाजपा प्रदेश महामंत्री विष्णुदत्त शर्मा, सांसद राव उदय प्रताप सिंह, जिलाध्यक्ष हरिशंकर जयसवाल सहित अन्य जनप्रतिनिधियों ने कर दिया। जिसमें भाजपा के प्रदेश महामंत्री विष्णुदत्त शर्मा के द्वारा शामिल होकर लोकार्पण किया जाना चर्चा का विषय बन गया। जबकि राजनितिक सूत्रों की माने तो नियमानुसार किसी भी पार्टी के संग़ठन के पदाधिकारियों को शासकीय भवनों का लोकार्पण करने का अधिकार नही है। वहीं विधायक सरताज सिंह, इलेक्ट्रॉनिक्स विकास निगम के पूर्व अध्यक्ष प्रेमशंकर वर्मा सहित अन्य जनप्रतिनिधि नजर नही आये।

ज्ञात हो कि विधायक सरताज सिंह ने कुछ दिनों पहले प्रेसवार्ता में कहा था कि कंप्यूटर सेंटर के लोकार्पण कार्यक्रम की अध्यक्षता पूर्व इलेक्ट्रॉनिक विकास निगम अध्यक्ष प्रेमशकर वर्मा करेगे। कंप्यूटर सेंटर उनके कार्यकाल की ही उपलब्धि है। लेकिन उनसे कार्यक्रम में अध्यक्षता नही कराई गई इसके चलते अन्य जनप्रतिनिधि शामिल नही हुए ऐसा लोगो का मानना है।

कही ले ना डूबे भाजपा की ये गुटबाजी
भाजपा की नीव माने जाने वाले संगठन के पदाधिकारी ही जब गुटबाजी का शिकार होने लगे तो ये माना जा सकता है की कही न कही ये भाजपा के लिए खतरा है। क्यूंकि भाजपा को लेकर चलने वाले संगठन के पदाधिकारी ही सभी को एक नहीं कर पा रहे है वही आने वाले विधानसभा चुनाव में भी ज्यादा समय नहीं शेष रह गया है। यदि जल्द ही गुटबाजी समाप्त नहीं की गई तो इसका खामियाजा भाजपा को विधानसभा चुनाव में उठाना पड़ सकता है।

इनका कहना है
में इस संबंध में कोई जानकारी नही देना चाहता हूं – सरताज सिंह विधायक