बालाघाट। विश्व प्रसिद्ध कान्हा राष्ट्रीय उद्यान में आज सुबह बाघिन की मौत का मामला सामने आया है। जिसमें बाघिन को मृत अवस्था में पाया गया। जिसे जगह-जगह से खाया गया है। ऐसा प्रतीत होता है कि किसी जानवर के साथ लड़ाई में उसकी मौत हुई है।

लंबे समय से कान्हा नेशनल पार्क में इस प्रकार की घटनाएं लगातार सामने आती रही है। जहां पर दो शेरों की लड़ाई में किसी एक की मौत होना निश्चित होता है या उसका गंभीर रूप से घायल होना लगभग तय होता है। लगातार कान्हा प्रबंधन की कोशिश रहती है कि किसी भी तरीके से यहां पर टायगरों की संख्या में इजाफा होता रहे। लेकिन परिस्थितियां प्रतिकूल होने के कारण इन घटनाओं से इनकी संख्या में फर्क पड़ता रहा है।

लगातार कान्हा प्रबंधन के सतर्क रहने के बाद भी शिकारियों एवं अन्य माध्यमों से टायगरों का शिकार होता चला आया है। इसके बाद भी प्रबंधन की निगरानी के कारण यहां पर टाइगरो का जीवन फल फूल रहा है। और उनकी संख्या लगातार बढ़ रही है। इसी प्रकार की आज की घटना सामने आई है। जिसमें कान्हा नेशनल पार्क में 4 वर्षीय बाघिन की मौत किसी जानवर के साथ लड़ाई में हो गई है। शरीर में बड़े जख्मों के निशान मिले है। शरीर का आधा भाग अन्य जानवरों के द्वारा खा लिया गया है। किसली परीक्षेत्र के खटिया बीट की यह घटना 5 जनवरी 2019 को गस्ती दल को यह बाघिन का शव मिला। कान्हा प्रबंधन द्वारा पूरी जांच के उपरांत शव का पोस्टमार्टम करा कर उसका अंतिम संस्कार कर दिया गया।