भोपाल। शुक्रवार प्रातः 11 बजे मध्यप्रदेश शिक्षक संघ के प्रान्ताध्यक्ष लछीराम इंगले के नेतृत्व में प्रतिनिधिमण्डल ने मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान से मुख्यमंत्री आवास पर मुलाकात की। मुलाकात में प्रदेश के 4 लाख शिक्षको की उपेक्षा से नाराजगी प्रकट की। इससे पूर्व सहायक शिक्षकों,शिक्षको प्रधानपाठको को तृतीय क्रमोन्नत वेतनमान देने पर धन्यवाद पत्र सौपते हुए, जनजातीय कार्य विभाग के लिए भी आदेश जारी करने सहित शिक्षकीय समस्याओं के निराकरण की मांग की।

मुख्यमंत्री जी ने गम्भीरता से मांगो को सुना एवं प्रमुख सचिव जनजातीय कार्य विभाग को तीसरी क्रमोन्नति,व्यख्याताओ को समयमान के आदेश जारी करने हेतु निर्देशित किया। 30 से 35 वर्ष से सहायक शिक्षक पदोन्नति से वंचित होकर एक ही पद पर सेवा देने को मजबूर है, ये वेतन व्याख्याता का लेकर योग्य होने के बावजूद उपेक्षित है। अध्यापक संवर्ग का शिक्षा विभाग में संविलियन, पुरुष्कार प्राप्त शिक्षको को पाली बाहर पदोन्नति अतिथि शिक्षकों का मानधन दुगना करने, गैर शिक्षकीय कार्य से शिक्षकों को दुर रखने, अध्यापक संवर्ग मे आये गुरुजीयों को नियुक्ति दिनांक से वरिष्ठता देने, आनलाईन युक्तियुक्तकरण प्रक्रिया स्थगित करने, स्वंय के व्यय पर डीएड बीएड करने वाले शिक्षकों एवं अध्यापकों को दो वेतनवृद्धी का लाभ देने, अनुदानित शिक्षण संस्थाओं के शिक्षकों को चौबीस वर्ष की क्रमोन्नति का लाभ देने शिक्षक से लेकर अधिकारी स्तर तक सर्वोच्च न्यायलय में पदोन्नति के मामले की सुनवाई की प्रतीक्षा में शर्तों के अधीन पदोन्नति देने सहित सभी मांगो के लिए मुख्यमंत्री महोदय ने अपने ओएसडी से निराकरण हेतु पन्द्रह दिवस के अंदर अधिकारियो के साथ बैठक कराने को कहा। संघ को सभी समस्याओ के निराकरण का भरोसा दिलाया। प्रतिनिधिमण्डल में महामंत्री क्षत्रवीरसिंह राठौर, बृजमोहन आचार्य, ओम पाटोदिया के के गौर डी डी भारती, राजीव शर्मा आदि मौजूद रहे।