इंडोनेशिया। सुनामी की एक और चेतावनी दी गई है। चेतावनी में कहा गया है कि लोग अगले दो दिनों तक ”सुंडा जल डमरूमध्य” के समुद्र तट से दूर रहें। अभी पिछले सप्ताह आई सुनामी में किसी तरह की कोई चेतावनी नहीं दी गई थी, जिसमें सोमवार तक 373 लोगों की मृत्यु हो चुकी है, जबकि 1459 घायल हुए हैं| सैकड़ों लोग घर बेघर हो चुके हैं। घायलों का अस्पतालों में उपचार किया जा रहा है।

सुनामी से करीब पांच हजार लोग उजड़ गए हैं। इन लोगों को सरकारी स्कूलों में ठहराया गया है। वहां पीने के पानी और दवाओं की भारी कमी होने की अपीलें की जा रही हैं। राष्ट्रपति जोको विदोडो ने सोमवार को सुंडा क्षेत्रों का दौरा किया। उनके पहुंचने से पूर्व मलबे को हटा लिया गया था। इस अवसर पर टेंट मेम एक क्लीनिक का निरीक्षण करते हुए उन्होंने कहा कि वह राहत कार्य देखने आए हैं। उन्होंने अफसोस जताया कि सुनामी अलर्ट सिस्टम खराब होने के कारण लोगों को बचाया नहीं जा सका। न्यूयॉर्क टाइम्स के अनुसार इंडोनेशियाई साइंस इंस्टीट्यूट के वैज्ञानिक इस बात की खोज में लगे हैं कि अभी हाल में सुनामी की चेतावनी देने में वह कैसे चूक गए? इंस्टीट्यूट के सुनामी विशेषज्ञ एकों यलीयंतो ने कहा है कि क्या सचमुच में भू स्खलन हुआ था। पिछले तीन महीनों में यह दूसरा मौका है जब सुनामी की समय रहते चेतावनी नहीं दी जा सकी है। पिछली 28 सितंबर को सलवेसी में आई सुनामी से 2100 लोग मारे गए थे।